भारत बनेगा दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी

दुनिया के तमाम बड़े निवेशक बैंक, संगठन और विशेषज्ञों का मत है कि अगला दशक हिंदुस्तान का है। यही वजह है कि दुनिया आज भारत का लोहा मान रही है। दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बनने के पश्चात अब भारत का अगला टारगेट दुनिया की तीसरे नंबर की इकोनॉमी बनना है। इसी दिशा में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है। याद हो, एक दौर वह भी था जब लंबे वक्त तक भारत की अनदेखी होती रही, लेकिन आज समय बदल गया है। सबसे खास बात यह है कि ये चमत्कार किसी लंबे कालखंड में नहीं बल्कि मात्र 5-6 साल में हुआ है।

भारत के विकास पथ को लेकर काफी उत्साहित दुनिया के विशेषज्ञ

जी हां, कोविड का तगड़ा झटका झेलने के पश्चात पूरी दुनिया एक नाजुक दौर से गुजर रही है। इसके बावजूद आज भारत तीसरी बड़ी इकोनॉमी (Economy) बनने की दिशा में अग्रसर है। यही वजह है कि दुनिया भर के विशेषज्ञ भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास पथ को लेकर काफी उत्साहित हैं। पीएम मोदी स्वयं विशेषज्ञों का हवाला देते हुए यह बात कह चुके हैं। इससे एक बात तो साफ है कि भारत बहुत जल्द दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी बनने के राह पर है।

गौरतलब हो, पीएम मोदी ने बीते दिनों तेलंगाना में एक कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में कहा था, साल 1990 के बाद यानि पिछले 3 दशकों में देश ने जो विकास देखा है, वो पिछले 8 सालों के दौरान हुए बदलावों के कारण कुछ ही सालों में होगा। उन्होंने कहा, ‘पिछले 2-3 साल से दुनिया कोरोना महामारी से लड़ रही है। दूसरी ओर संघर्ष हो रहे हैं, सैन्य कार्रवाइयां हो रही हैं और उसका असर देश और दुनिया पर भी पड़ रहा है।’

देश बहुत तेजी से बढ़ रहा आगे

आगे जोड़ते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘इन विकट परिस्थितियों में भी दुनिया भर में एक और बात सुनने को मिल रही है। दुनिया भर के जानकारों का कहना है कि भारत जल्द ही दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी बन जाएगा और उस दिशा में यह बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है।’

पीएम मोदी बोले- ‘Fastest Growing अर्थव्यवस्था भारत’

केवल इतना ही नहीं पीएम मोदी ने आज मंगलवार को इंडोनेशिया के बाली में G20 शिखर सम्मेलन के दौरान पूरी दुनिया के समक्ष अपनी बात रखते हुए कहा कि ”विश्व की Fastest Growing अर्थव्यवस्था भारत की एनर्जी-सिक्युरिटी वैश्विक ग्रोथ के लिए भी महत्वपूर्ण है। हमें एनर्जी की सप्लाइज पर किसी भी तरह के प्रतिबंधों को बढ़ावा नहीं देना चाहिए। तथा एनर्जी बाजार मे स्थिरता सुनिश्चित करनी चाहिए। भारत क्लीन एनर्जी और पर्यावरण के प्रति कमिटेड है। 2030 तक हमारी आधी बिजली renewable स्रोतों से पैदा होगी। समावेशी एनर्जी ट्रांजीशन के लिए विकासशील देशों को समय-बद्ध और किफायती फाइनेंस और टेक्नोलॉजी की स्थायी आपूर्ति अनिवार्य है।” पीएम मोदी के इस बयान से ये बात भी क्लियर हो गई कि भारत अपनी ग्रोथ के लिए और अधिक प्रयास तो करेगा मगर वह पर्यावरण की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कदम उठाएगा।

बड़े वैश्विक निवेश बैंक ने भारत के पक्ष में कही थी ये बात

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व में वैश्विक निवेश बैंक मॉर्गन स्टेनली अपनी एक रिपोर्ट में कह चुका है कि 2030 तक भारत, दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। भारत में विनिर्माण, ऊर्जा संक्रमण और डिजिटल बुनियादी ढांचे में निवेश से बहुत से आर्थिक बदलाव हो रहे हैं जो भारतीय अर्थव्यवस्था को गति देंगे। इससे भारत, दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। बता दें ‘वॉय दिस इज इंडियाज डिकेड’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में भारत की अर्थव्यवस्था के भविष्य को आकार देने वाले रुझानों और नीतियों पर विस्तार से विचार किया गया है।

वित्त मंत्री भी कह चुकी- ‘भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहेगा’

इसके अलावा देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी ऐसे ही संकेत दे चुकी हैं। उन्होंने कहा था कि वैश्विक चुनौतियों के बावजूद भारत उन चुनिंदा देशों में से है जो शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने आईएमएफ के ही अनुमान का जिक्र करते हुए कहा था कि भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहेगा।

ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए भारत बन चुका दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था

अर्थव्यवस्था से जुड़ी एक के बाद एक सुखद खबर मिलना जारी हैं। फिलहाल विशेषज्ञों ने भारतीय अर्थव्यवस्था को दुनिया में टॉप थ्री रैंक पर आने की संभावनाओं में रखा है लेकिन इससे पहले भारत ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुका है। जी हां, सितंबर माह में यह खबर सामने आई थी।

देश सही दिशा में बढ़ रहा आगे

भारतीय अर्थव्यवस्था सही दिशा में आगे बढ़ रही है। ब्रिटेन को पीछे छोड़कर भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के बाद अब तीसरे स्थान की ओर बढ़ रहा है। कोरोना महामारी जैसे आपदाओं के बावजूद नए अवसरों पर मजबूती से आगे बढ़ते हुए देश लगातार आर्थिक मोर्चे पर बेहतर कर रहा है। ज्ञात हो, पिछले 10 वर्षों में 11वें पायदान से यहां तक का सफर भारत ने तय किया है इस लिहाज से यह बेहद शानदार और प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व करने वाला क्षण होगा।

2047 तक विकसित देश बनाने का लक्ष्य

बता दें, पीएम मोदी ने 2047 तक भारत को विकसित देश बनाने का लक्ष्य तय किया है। देशहित में उठाए गए लगातार सुधारात्मक कदमों की बदौलत भारतीय अर्थव्यवस्था में अन्य देशों के मुकाबले तेजी बनी हुई है। ऐसे में कहना उचित होगा कि सरकार की रिफॉर्म, ट्रांसफॉर्म और परफॉर्म की नीति ने विश्व स्तर पर भारत को सशक्त पहचान दी है।

 


More Related Posts

Scroll to Top